Ad Code

Responsive Advertisement

संधि | SSC Notes

निकट स्थित दो वर्णो के मेल से होने वाला परिवर्तन संधि कहलाता है।

जैसे: वाक् + ईश - वागीश, रमा + ईश - रमेश

संधि के मुख्यतः तीन भेद है।

  1. स्वर संधि: स्वर + स्वर
  2. व्यंजन संधि: स्वर/व्यंजन + व्यंजन/स्वर(कम से कम एक तरफ व्यंजन जरूरी)
  3. विसर्ग संधि: विसर्ग से पहले स्वर(ः) + स्वर/व्यंजन

उदाहरण

नि + सिद्ध

यहां 'नि' में 'न्' व्यंजन है तथा ' ि' स्वर है। अतः नि स्वर है क्योंकि नि - न् + इ

इसी प्रकार 'सि' में 'स्' व्यंजन है तथा ' ि' स्वर है अतः सि - स् + इ

इस प्रकार नि + सि: न् + इ + स् + इ + द्ध: निषिद्ध

यहां यदि 'स' से पहले 'अ, आ' से भिन्न कोई स्वर आये तो स का ष हो जाता है।

तथ्य

+ से पहले स्वर सदैव मात्रा के रूप में पाया जाता है अर्थात + से पहले व्यंजन में जो मात्रा लगी हो + से पहले वही स्वर होगा।

+ से पहले व्यंजन तभी माने जब व्यंजन के निचे हल( ् ) का चिन्ह लगा हो।

जैसे: क् ख् ग्।

+ के बाद स्वर तभी माने जब स्वर अपने वास्तविक रूप में हो।

जैसे: अ आ इ ई उ ओ।

+ के बाद यदि मात्रा लगा व्यंजन आये तो व्यंजन ही माना जायेगा।

जैसे: क , की , कु इनमें व्यंजन क ही माना जायेगा क्योंकि 'क' : क्+अ ।


Reactions

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां