भारतीय रेल - SSC EXAM LIVE

शुक्रवार, 31 अगस्त 2018

भारतीय रेल

भाप के ईजंन का आविष्कार जेम्स वाट(James Watt) ने किया।

रेलवे ईजंन का आविष्कार जार्ज स्टीवेशन(George Stephenson) ने किया।

विश्व में प्रथम आधुनिक ट्रेन(पहले डिब्बे पशुओं के द्वारा खिंचे जाते थे) ब्रिटेन में मेनचेस्टर(Manchester) से लीवरपुर(Liverpool) के मध्य 1826 में चलाई गई ।

भारत में रेलमार्गो का निर्माण 1850 में लाॅर्ड डलहौजी के कार्यकाल में आरम्भ हुआ।

भारत में पहली ट्रेन 1853 में बोरीबंदर(मुंबई) से थाणे(34 किमी.) के मध्य चलाई गई।

भारतीय रेल एशिया का सबसे बड़ा व विश्व का दुसरा सबसे बड़ा रेल नेटवर्क है।

रेलवे संघ सूची का विषय है।


1925 में एटंवर्थ कमेटी की सिफारिश पर रेल बजट को आम बजट से अलग किया गया।

विश्व का सबसे प्राचीन चालु ईंजन फेयरी क्वीन है।

भारतीय रेलवे के 50 साल बाद तक भी ट्रैन के डब्बो में शौचालय की व्यवस्था नहीं थी ।

भारतीय रेल के दो मुख्‍य खंड हैं . भाड़ा वाहन और सवारी। भाड़ा खंड लगभग दो तिहाई राजस्‍व जुटाता है जबकि शेष सवारी यातायात से आता है।


भारतीय रेलवे के 17 क्षेत्र(जोन) 68 रेलमंडल(डिवीजन) है।

नागपुर जो की मध्य ,भारत में स्तिथ है , में डायमंड क्रासिंग है । यंहा से ट्रैन चारो दिशाओ में अर्थात पूर्व , पश्चिम , उत्तर और दक्षिण को और जाती है ।

ट्रैन से पंखो और अन्य विद्युत उपकरणों की चोरी को रोकने के लिए टरेन में विद्युत सप्लाई 110 वाल्ट पे की जाती है । क्यूंकि घरो में चलने वाले सभी विद्युत उपकरण 220 वाल्ट के होते हैं ।

राजस्थान में प्रथम ट्रेन आगरा फोर्ट से बंदीकुई के मध्य 1874 में चलाई गई।


राजस्थान में रेलवे के 2 जोन(उपरे, पमरे) व 5 मंडल(जयपुर,अजमेर, बीकानेर, जोधपुर, कोटा) है।

1 अक्टूबर 2002 को उत्तर पश्चिम रेलवे (उपरे) की स्थापना हुई। इसका मुख्यालय जयपुर है। इसके अन्तर्गत 4 मंडल - जयपुर, जोधपुर, बीकानेर, अजमेर आते हैं।

1 अप्रैल 2003 को पश्चिम मध्य रेलवे (पमरे) की स्थापना हुई। इसका मुख्यालय जबलपुर है। इसके अन्तर्गत राजस्थान का एक मंडल - कोटा आता है।

पश्चिमी क्षेत्रीय रेलवे प्रशिक्षण केन्द्र - उदयपुर

यह एशिया का सबसे बड़ा माॅडल कक्ष है।

रेलवे गति परिक्षण व प्रशिक्षण केन्द्र - बाड़मेर।

एशिया का मिटर गेज का सबसे बड़ा यार्ड - फुलेरा(जयपुर)।

राजस्थान में बांसवाड़ा में रेलमार्ग नहीं है।

राजस्थान में धौलपुर में नैरोगेज है।

राजस्थान में पहली रेलवे बस - मेड़ता सिटी में 1994 में चलाई।

स्वतंत्रता से पहले नीजी ट्रेन रखने वाली रियासतें - बीकानेर, जोधपुर।

मैट्रो का जनक/ मैट्रो मेन - ई. श्रीधरन।

1965 भारत - पाक युद्ध के दौरान उदयपुर के रेलचालक दुर्गाशंकर पालीवाल को राष्ट्रपति द्वारा वीरचक्र दिया गया।

रेलमार्ग की दृष्टि से राजस्थान का स्थान - 12 वां।

भवानी मंडी रेलवे स्टेशन राजस्थान और मध्यप्रदेश के बीच स्तिथ है ।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें