अटल बिहारी वाजपेयी जी - SSC EXAM LIVE

शुक्रवार, 17 अगस्त 2018

अटल बिहारी वाजपेयी जी




संक्षिप्त परिचय

पूरा नाम / Full Name – अटल बिहारी वाजपेयी
जन्म / Date of Birth – 25 दिसम्बर 1924
जन्मस्थान / Place of Birth- ग्वालियर, मध्यप्रदेश
उम्र / Age – 93 वर्ष
मृत्यु / Death Date – 16 अगस्त 2018
माता / Mother – कृष्णा देवी
पिता / Father – कृष्णा बिहारी वाजपेयी
विवाह / Married – अविवाहित
दत्तक पुत्री/ Adoptive Daughter- नमिता
राजनीतिक दल / Politics party – भारतीय जनता पार्टी



अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म 25 दिसम्बर 1924 में ग्वालियर के छोटे से गाँव के एक साधारण-सा परिवार में हुआ था। उनके पिता गाँव के स्कूल मास्टर थे, साथ ही एक महान कवि भी थे। जिसके चलते अटल को कवित्व का गुण अपने पिता से विरासत में मिला था।

उन्होंने प्राम्भिक शिक्षा गोरखी विद्यालय से प्राप्त की और बाद में आगे की पढ़ाई के लिए ग्वालियर के विक्टोरिया कॉलेज (जिसे अब लक्ष्मी बाई कॉलेज के नाम से जाना जाता है ) चले गए, जहां से बीए की। फिर कानपुर के दयानन्द एंग्लो – वैदिक कॉलेज मे राजनीति विज्ञान से M.A.की। यहाँ उन्होंने सभी सहपाठियों को पीछे छोड़ते हुए कॉलेज में टॉप किया।

अटल जी का राजनैतिक सफर स्वतंत्रता संग्रामी के रूप में शुरू हुआ। 1942 में भारत छोड़ो आन्दोलन में बाकि नेताओं के सथ उन्होंने भाग लिया और जेल भी गए। इसी दौरान उनकी मुलाकात भारतीय जनसंघ के लीडर श्याम प्रसाद मुखर्जी से हुई। 1968 में दीनदयाल उपाध्याय की मौत के बाद अटल जी जन संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने। 1977 में भारतीय जन संघ ने भारतीय लोकदल के साथ गठबंधन कर लिया, जिसे जनता पार्टी नाम दिया गया। जनता पार्टी के लीडर मोरारजी देसाई जब प्रधानमंत्री बने तब अटल जी को एक्सटर्नल अफेयर मिनिस्टर बनाया गया। 1980 में लाल कृष्ण आडवानी व भैरव सिंह शेखावत के साथ मिलकर भारतीय जनता पार्टी बनाई, और पार्टी के पहले राष्ट्रीय अध्यक्ष बन गए। मई 1996 में बीजेपी को जीत मिली और अटल जी को प्रधानमंत्री पद के लिए चुना गया। लेकिन बीजेपी को दूसरी पार्टियों से सपोर्ट नहीं मिला और बीजेपी सरकार गिर गई और मात्र 13 दिन में अटल जी को पद से इस्तीफा देना पड़ा।


इसके बाद एक बार फिर बीजेपी सत्ता में आई लेकिन सरकार मात्र 13 महीने की रही। इसके बाद 1999 में कारगिल में हुई भारत की विजय ने अटल जी की सरकार को मजबूत बना दिया। और चुनावों में बीजेपी की जीत हुई, जिसके बाद अटल जी तीसरी बाद प्रधानमंत्री की कुर्सी पर बैठे। इस बार सरकार ने 5 साल पुरे किये, और पहली गैर कांग्रेसी पार्टी बन गइ।

उन्होंने भारत-पाक सम्बधों में सुधार के लिये पाक शासक नवाज शरीफ से बातचीत करते हुए 19 फरवरी 1999 को “सदा ए सरहद” नाम से नई दिल्ली और लाहौर के बीच बस सेवा शुरू की। लेकिन बदले में भारत को उपहार स्वरूप कुछ महीनों के पश्चात कारगिल युद्ध मिला।

अटल कहते थे कि वर्तमान युग मे बिना विज्ञान का सहारा लिए विकास नही किया जा सकता है जिसके लिए उन्होने जय जवान जय किसान नारे को आगे बढ़ते हुए “जय जवान,जय किसान, जय विज्ञान” का नारा दिया। ए पी जे अब्दुल कलाम की तरह देश की सेवा में इतने मशहूल हो गए कि उन्होंने देश सेवा को अपने जीवन का अंतिम काम और जीवन संगिनी बना लिया। इसलिए उन्होंने शादी नहीं की। पर उन्होंने एक लड़की को गोद लिया, जिसका नाम नमिता है।

अटल बिहारा वाजपेयी जी ने अंतिम सांस दिल्ली एम्स में 16 अगस्त 2018 को शाम 5:05 मिनट को ली और सदा के लिए स्वर्गवाशी हो गए।
पुरस्कार / Award
सन 1992 में पद्म विभूषण।
सन 1994 में लोकमान्य तिलक अवार्ड।
सन 1994 में बेस्ट सांसद अवार्ड।
सन 1994 में पंडित गोविंद वल्लभ पंत अवार्ड।
सन 2014 में भारत रत्न।

सत्ता में आने के जस्ट 1 महीने बाद अटल जी व उनकी सरकार ने मई 1998 में राजिस्थान के पोखरम में 5 अंडरग्राउंड नूक्लियर का सफल टेस्ट करवाए. परीक्षण पूरी तरह से सफल रहा, जिसकी चर्चा देश विदेश में भी जोरों पर रही.

अटल जी द्वारा शुरू किये गए नेशनल हाईवे डेवलपमेंट प्रोजेक्ट (NHDP) व प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना (PMGSY) उनके दिल के बेहद करीब थी, वे इसका काम खुद देखते थे. NHDP के द्वारा उन्होंने देश के चार मुख्य शहर दिल्ली, मुंबई, चेन्नई व कोकत्त्ता को जोड़ने का काम किया. PMGSY के द्वारा पुरे भारत को अच्छी सड़कें मिली, जो छोटे छोटे गांवों को भी शहर से जोड़ती.

कारगिल युद्ध व आतंकवादी हमले के दौरान अटल जी द्वारा लिए गए निर्णय, उनकी लीडरशिप व कूटनीति ने सबको प्रभावित किया जिससे उनकी छवि सबके सामने उभर कर आई.

2001 में अटल जी ने सर्व शिक्षा अभियान की भी शुरूआत की।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें